राजेश जोशी की (नयी) कविताएं

May 15, 2007 at 7:14 pm 4 comments

राजेश जोशी

एक कवि कहता है

नामुमकिन है यह बतलाना कि एक कवि
कविता के भीतर कितना और कितना रहता है

एक कवि है
जिसका चेहरा-मोहरा, ढाल-चाल और बातों का ढब भी
उसकी कविता से इतना ज्यादा मिलता-जुलता सा है
कि लगता है कि जैसे अभी-अभी दरवाजा खोल कर
अपनी कविता से बाहर निकला है

एक कवि जो अक्सर मुझसे कहता है
कि सोते समय उसके पांव अक्सर चादर
और मुहावरों से बाहर निकल आते हैं
सुबह-सुबह जब पांव पर मच्छरों के काटने की शिकायत करता है
दिक्कत यह है कि पांव अगर चादर में सिकोड़ कर सोये
तो उसकी पगथलियां गरम हो जाती हैं
उसे हमेशा डर लगा रहता है कि सपने में एकाएक
अगर उसे कहीं जाना पड़ा
तो हड़बड़ी में वह चादर में उलझ कर गिर जायेगा

मुहावरे इसी तरह क्षमताओं का पूरा प्रयोग करने से
आदमी को रोकते हैं
और मच्छरों द्वारा कवियों के काम में पैदा की गयी
अड़चनों के बारे में
अभी तक आलोचना में विचार नहीं किया गया
ले देकर अब कवियों से ही कुछ उम्मीद बची है
कि वे कविता की कई अलक्षित खूबियों
और दिक्कतों के बारे में भी सोचें
जिन पर आलोचना के खांचे के भीतर
सोचना निषिद्ध है
एक कवि जो अक्सर नाराज रहता है
बार-बार यह ही कहता है
बचो, बचो, बचो
ऐसे क्लास रूम के अगल-बगल से भी मत गुजरो
जहां हिंदी का अध्यापक कविता पढ़ा रहा हो
और कविता के बारे में राजेंद्र यादव की बात तो
बिलकुल मत सुनो.

प्रौद्योगिकी की माया

अचानक ही बिजली गुल हो गयी
और बंद हो गया माइक
ओह उस वक्ता की आवाज का जादू
जो इतनी देर से अपनी गिरफ्त में बांधे हुए था मुझे
कितनी कमजोर और धीमी थी वह आवाज
एकाएक तभी मैंने जाना
उसकी आवाज का शासन खत्म हुआ
तो उधड़ने लगी अब तक उसके बोले गये की परतें

हर जगह आकाश

बोले और सुने जा रहे के बीच जो दूरी है
वह एक आकाश है
मैं खूंटी से उतार कर एक कमीज पहनता हूं
और एक आकाश के भीतर घुस जाता हूं
मैं जूते में अपना पांव डालता हूं
और एक आकाश मोजे की तरह चढ़ जाता है
मेरे पांवों पर
नेलकटर से अपने नाखून काटता हूं
तो आकाश का एक टुकड़ा कट जाता है

एक अविभाजित वितान है आकाश
जो न कहीं से शुरू होता है न कहीं खत्म
मैं दरवाजा खोल कर घुसता हूं, अपने ही घर में
और एक आकाश में प्रवेश करता हूं
सीढ़ियां चढ़ता हूं
और आकाश में धंसता चला जाता हूं

आकाश हर जगह एक घुसपैठिया है

चांद की आदतें

चांद से मेरी दोस्ती हरगिज न हुई होती
अगर रात जागने और सड़कों पर फालतू भटकने की
लत न लग गयी होती मुझे स्कूल के ही दिनों में

उसकी कई आदतें तो
तकरीबन मुझसे मिलती-जुलती सी हैं
मसलन वह भी अपनी कक्षा का एक बैक बेंचर छात्र है
अध्यापक का चेहरा ब्लैक बोर्ड की ओर घुमा नहीं
कि दबे पांव निकल भागे बाहर…

और फिर वही मटरगश्ती सारी रात
सारे आसमान में.

Entry filed under: कविताएं. Tags: .

बंगाल में विकास का मिथ : दावों की असलियत राजेश जोशी की (नयी) कविताएं

4 Comments Add your own

  • 1. परमजीत बाली  |  May 16, 2007 at 7:32 am

    रियाज जी,अच्छी रचनाएं प्रेषित की हैं ।यह रचना बचपन की शैतानियों को उजागर करने मे पूर्ण समर्थ रही है।बधाई।-
    चांद से मेरी दोस्ती हरगिज न हुई होती
    अगर रात जागने और सड़कों पर फालतू भटकने की
    लत न लग गयी होती मुझे स्कूल के ही दिनों में

    उसकी कई आदतें तो
    तकरीबन मुझसे मिलती-जुलती सी हैं
    मसलन वह भी अपनी कक्षा का एक बैक बेंचर छात्र है
    अध्यापक का चेहरा ब्लैक बोर्ड की ओर घुमा नहीं
    कि दबे पांव निकल भागे बाहर…

    और फिर वही मटरगश्ती सारी रात
    सारे आसमान में.

    Reply
  • 2. anu  |  May 17, 2007 at 6:59 am

    thoda kamjoor kavitayen lagin, lekin anya blogees se alag sahityik mijaj ki posting dekhkar sukhad anubhuti hui.

    Reply
  • 3. Reyaz-ul-haque  |  May 17, 2007 at 9:51 am

    anu apko dekh kar achha laga. Mohalle meN kuchh log apko Didi jee(bahan jee) samjh baithe hain. HA… HA… HA…

    Reply
  • 4. anu  |  May 18, 2007 at 9:58 am

    aapne usaka jo jawab diya hai dil ko khush kar diya.

    Reply

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Trackback this post  |  Subscribe to the comments via RSS Feed


Recent Posts

calander

May 2007
M T W T F S S
« Apr    
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  

%d bloggers like this: